Hindi MCQ Class 10

Hindi MCQ Class 10: Hindi is considered as one of the challenging subjects for Class 10 board preparation, and it is also the second language in the CBSE Class 10 board examination. Being a lengthy and tough subject, students got nervous and worried. From two subdivisions of Hindi, Hindi is focussed more on an in-depth analysis of prose and poetry. Further, Hindi is generally preferable by students who are interested in learning Hindi Literature.

Hindi MCQ Class 10 Term-1 

To help you in your exam preparation, our team have curated the CBSE Hindi A Previous Year Question Paper Solutions for Class 10 to assist you in understanding the level of the exam. With the help of our solutions, students can experience conducive learning for the Hindi Course A. Through these Hindi Class 10 MCQ for Term-1, you can boost your overall performance to score good marks in the Hindi A board exams and can know how time-consuming is the exam. 

Hindi Class 10 MCQ Sample Paper

To help students boost up their preparation for the CBSE Hindi Paper, more effective and efficient, we have prepared a sample paper as per the exam pattern of CBSE Hindi A for Class 10. By solving these Class 10 Hindi MCQ, you can surely strengthen your preparation level, know the important topics and score excellent marks in the board exams.

Q1. निम्नलिखित गद्यांश को पढ़कर प्रश्नों के उत्तर दीजिए

महात्मा गांधी ने कोई 12 साल पहले कहा था कहा मैं बुराई करने वालों को सजा देने का उपाय ढूंढने लगी तो मेरा काम होगा उनसे प्यार करना और धैर्य तथा नम्रता के साथ उन्हें समझाकर सही रास्ते पर ले आना इसलिए असहयोग तथा सत्याग्रह  घृणा का गीत नहीं है। असहयोग का उद्देश्य बुराई को बढ़ावा देना नहीं है बल्कि बुराई से असहयोग करना है।अगर दुनिया बुराई को बढ़ावा देना बंद कर दे तो बुराई अपने लिए आवश्यक पोषण के अभाव में अपने-आप मर जाए। अगर हम यह देखने की कोशिश करें कि आज समाज में जो बुराई है, उसके लिए खुद हम कितने जिम्मेदार हैं तो हम देखेंगे कि समाज से बुराई कितनी जल्दी दूर हो जाती हैं लेकिन हम प्रेम की एक झूठी भावना में पड़कर इसे सहन करते हैं। मैं उस प्रेम की बात नहीं करता, जिसे पिता अपने गलत रास्ते पर चल रहे पुत्र पर मोहाध होकर बरसाता चला जाता है, उसकी पीठ थपथपाता है, और न मैं उस पुत्र की बात कर रहा हूँ जो झूठी पितृभक्ति के कारण अपने पिता के दोषों को सहन करता है। मैं उस प्रेम की चर्चा नहीं कर रहा हूँ। मैं तो उस प्रेम की बात कर रहा हूँ, जो विवेकयुक्त है और जो बुद्धियुक्त है और जो एक भी गलती की ओर से आँख बंद नहीं करता। यह सुधारने वाला प्रेम है।

1. महात्मा गांधी बुराई वाले लोगों को किस प्रकार सुधारना चाहते थे?

क) डांट फटकार कर

ख) लालच देकर

ग) प्यार, धैर्य तथा नम्रता

घ) डराकर

2. बुराई को कैसे समाप्त किया जा सकता है? 

क) बुराई को समाप्त करके

ख) अच्छाई को ग्रहण करके

ग) बुराई से सहयोग करके

घ) बुराई से असहयोग करके

3. असहयोग से क्या तात्पर्य है?

क) बुरे से असहयोग करना

ख) बुराई से असहयोग करना

ग) किसी का भी साथ ना देना

घ) सबका साथ देना

4. गांधी जी के अनुसार प्रेम वह है - 

क) जो विवेक और बुद्धि से युक्त है

ख) जो गलती की ओर से आँख बंद कर लेता है

ग) जो मोहांध कर देता है

घ) जो प्रेमी के दोषों को छिपाता है 

5. गद्यांश का उपर्युक्त शीर्षक है -

क) गांधी जी का प्रेम

ख) गांधी जी का सत्याग्रह

ग) बुराई का विनाश

घ) सच्चा प्रेम

अथवा

सड़क मार्ग से हम आगे बढ़े और सरयूपुल पर ही बस्ती जिले की सीमा में प्रवेश किया। हमारा पहला पड़ाव कुशीनगर था, मगर हम कुछ देर मगहर में रुके। कबीर की निर्वाण भूमि, मगर फरकापरस्तों ने उनकी सारी मेहनत पर पानी फेर दिया और उन्हें मंदिर और मक़बरे में बाँट दिया है। मठ के महंत ने हमारे भोजन की व्यवस्था की और आस पास के स्कूल और कॉलेज की लड़कियों से मुलाक़ात भी कराई। उनसे की बात चीत से हमने जाना की अब स्थितियां बदली है लड़कियों की पढ़ाई और नौकरी पर ध्यान दिया जाने लगा है । मगर सामाजिकता का लोप सा होने लगा है। अब ब्याह और मारनी हरनी में भी एका नज़र नही आता। गीतों की बात चली तो वहाँ मौजूद पचास साठ लड़कियों में किसी को भी लोकगीत याद नही थे।

वहाँ से हम कुशीनगर पहुँचे रात गिरने लगी थी। मगर हम पंडरी गाँव के लोगों से मिले कुशीनगर से लगभग 20 किलोमीटर होने पर भी विकास का एक भी नहीं पहुँचा था मगर यहाँ के युवा सजग है। वे स्वप्रयास से स्कूल भी चलाते हैं रात को हम बोद्ध मठ में ठहरे। यह मठ किसी शानदार विश्रामग्रह से कम नहीं था। सुबह हम केसरिया गाँव गये सामाजिक और पारिवारिक विघटन के इस दौर में एक मात्र संयुक्त परिवार मिला हमने उनसे बात की उस परिवार की सबसे बुजुर्ग महिला के पास भी त्योहार, गीत गवनई की अनुपम थाती थी मगर उनसे सीखने वाला कोई नहीं था। नयी पीढ़ी लोक से विरत थी।

1. लेखक मगहर के रुकने के बाद सर्वप्रथम कहाँ रुके

क) बस्ती में

ख) कुशीनगर में

ग) कबीर की निर्वाण भूमि में

पंडरी गाँव में

2. कबीर की किस मेहनत पर पानी फिर गया

क) समाज को संपराधायिक भेदभाव से ऊपर उठाने की मेहनत पर

ख) हिंदू धर्म का प्रचार प्रसार करने की मेहनत पर

ग) ब्याह और मरनी में एका करने की मेहनत पर

घ) लोकगीत की थाती को बचाए रखने की मेहनत  पर

3. कौन सी विशेषता पंडरी गाँव के युवकों की नहीं है

क) सचेत हैं

ख) शिक्षा के प्रति सजग हैं

ग) विकास के वंचित हैं

घ)  संयुक्त परिवार में रहते हैं

4. “मगर समाजिकता का लोप सा होने लगा है”- का भाव है

क) सामाजिक सरोकारों का अभाव

ख) मारने जीने का एका नही दिखता है

ग) सांस्कृतिक ज्ञान का अभाव

घ)  लोकगीतों का विस्मरण

5. गद्यांश का उपर्युक्त शीर्षक है -

क) मगहर के कुशीनगर

ख) हमारी यात्रा हमारा देश

ग) कबीर की अनुपम थाती

घ)  इनमे से कोई नहीं

Q2. नीचे दिए गए काव्यांश को ध्यानपूर्वक पढ़िए और उस पर आधारित प्रश्नो के उत्तर सही विकल्प चुनकर लिखिए

जब बचपन तुम्हारी गोद में

आने से कतराने लगे,

जब माँ की कोख से झांकती ज़िंदगी

बाहर आने से घबराने लगे,

समझो कुछ ग़लत है।

जब तलवारें फूलों पर

ज़ोर आज़माने लगे,

जैन मासूम आँखों में

ख़ौफ़ नज़र आने लगे,

समझो कुछ ग़लत है।

जब किलकारियाँ सहम जाये

जब तोतली बोलियाँ ख़ामोश हो जाए,

समझो कुछ ग़लत है।

कुछ नहीं बहुत कुछ ग़लत है

क्योंकि ज़ोर से बारिश होनी चाहिए थी,

पूरी दुनिया में हर जगह टपकने चाहिए थे आंसू

रोना चाहिए था ऊपर वाले को, आसमाँ से फुट फुट,

शर्म से झुकनी चाहिए थी, इंसानी सभ्यता की गर्दने

शोक का नहीं सोच का वक्त है,

मातम नहीं, सवालों का वक्त है

अगर इसके बाद भी सर उठाकर

खड़ा हो सकता है इंसान

समझो कि बहुत कुछ ग़लत है।

1. माँ की कोख से झाँकती ज़िंदगी को घबराहट क्यों हो सकती है-

क) उसे बाहर की असुरक्षा का आभास हो रहा है

ख) उसे प्रदूषण का डर सता रहा है

ग) उसे माँ ने बाहर की वास्तविकता बता दी है

घ) बाहर का वातावरण अनुकूल नहीं है

2. कविता में ‘मासूम आँखे’ की किस का प्रतीक है-

क) सुंदर आँखों का

ख) स्त्रियों का

ग) बच्चों का

घ) ग़रीबों का

3. कवि के अनुसार बहुत ग़लत कब है

क) जब ओस तलवार की नोक पर गिरे

ख) जब मासूम सहम जाए

ग) जब बचपन समाप्ति के कागर पर हो

घ) जब किलकारियों की गूँज ख़ामोश हो जाए

4. कुछ ग़लत नहीं है यदि-

क) भ्रूण हत्या होने लगे

ख) बच्चों पर अत्याचार होने लगे

ग) बालश्रम बढ़ जाए

घ) बचपन गोद में आने लगे

5. कवि के अनुसार अभी किसका वक्त है-

क) सोच-विचार का

ख) शोक मानने का

ग) मातम मनाने का

घ) उत्सव मानने का

खंड ख (व्यवहारिक व्याकरण) 

Q3. निर्देशानुसार किन्ही चार प्रश्नों के उत्तर लिखिए

1. 'उनको पूरा पूरा विश्वास था कि ठाकुर साहब मेम्बर बन जाएँगे' वाक्य का सरल वाक्य में रूपांतरण होगा-

क) उनको ठाकुर साहब के मेंबर बनने का पूरा पूरा विश्वास था

ख) जब उन्हें विश्वास था तभी तो ठाकुर साहब मेंबर बने 

ग) उन्हें पूरा पूरा विश्वास था इसलिए ठाकुर साहब मेम्बर बन गए हैं 

घ) उनके विश्वास के कारण ठाकुर साहब मेम्बर बने

2. निम्नलिखित में से मिश्र वाक्य है-

क) सफ़ेद कमीज़ वाले छात्र को यह पुस्तक दे दो 

ख) छात्र को पुस्तक दे दो क्योंकि उसने सफ़ेद कमीज़ पहनी है 

ग) छात्र ने सफ़ेद कमीज़ पहनी है इसलिए उसे पुस्तक दे दो 

घ) जिस छात्र की  कमीज़ सफ़ेद है उसे यह पुस्तक दे दो

3. मझोले आकार का ये हैं पक्षी बहुत सजीला होता है। वाक्य का मिश्रा वाक्य में रूपांतरण होगा-

क) मझोले आकार का ये है जो पक्षी है,बहुत सजीला होता है

ख) मझोले आकार का होता है और यह पक्षी सजीला होता है

ग) मझोले आकार का होता है इसलिए यह पक्षी सजीला होता है

घ) मझोले आकार का होने के साथ साथ यह पक्षी सजीला भी होता है

4. वे उन सब लोगों से मिले जो मुझे जानते थे सरल वाक्य में रूपांतरण होगा-

क) वे मुझे जानने वाले सब लोगों से मिले 

ख) जिन लोगों से मेरी पहचान थी वे उन सबसे मिले

ग) वे उन लोगों से मिले और वे सब मुझे जानते थे 

घ) मैं उनसे मिलूंगा क्योंकि वे मुझे जानते हैं

5. पंख वाले चींटे या दीमक वर्षा के दिनों में निकलते हैं वाक्य का भेद है-

क) इच्छा वाक्य

ख) सरल वाक्य

ग) मिश्र वाक्य 

घ) संयुक्त वाक्य

Q4. निर्देशानुसार किन्ही चार प्रश्नों के उत्तर लिखिए

1. ‘अब आश्रम में पढ़ने के लिए चलें।’ वाक्य का भाववाच्य परिवर्तन है-

क) अब आश्रम में पढ़ने के लिए चला जाए

ख) अब आश्रम में पढ़ने के लिए चलेंगे

ग) अब आश्रम में पढ़ने के लिए चलते हैं

घ) अब आश्रम में पढ़ने के लिए चला जाएगा

2. निम्नलिखित में से भाववाच्य है- 

क) हमने उसको एक संस्कार देने का प्रयास किया 

ख) माँ से रोया भी नहीं जा सकता 

ग) चलो, अब सोते हैं 

घ) नेताजी द्वारा भाषण दिया गया

3. ‘मंत्री जी द्वारा राहत सामग्री बँटवाई गई।’ वाक्य में वाच्य है- 

क) कर्तृवाच्य

ख) कर्मवाच्य 

ग) भाववाच्य

घ) इनमें से कोई नहीं

4. ‘अनेक दर्शकों ने नृत्य की सराहना की।’ वाक्य का कर्मवाच्य में परिवर्तन है- 

क) अनेक दर्शकों द्वारा नृत्य की सराहना की गई

ख) अनेक दर्शक नृत्य की सराहना करेंगे

ग) अनेक दर्शकों द्वारा नृत्य की सराहना की जाएगी

घ) अनेक दर्शक नृत्य की सराहना करते हैं

5. ‘चलो, कहीं चला जाए।’ वाक्य का कर्तृवाच्य में परिवर्तन है 

क) चलो, कहीं चले जाएँगे

ख) चलो, कहीं चलें

ग) चलो, कहीं चलना चाहिए

घ) चलो, कहीं चलना था

Q5. निर्देशानुसार किन्ही चार प्रश्नों के उत्तर लिखिए

1. ‘वे मुंबई जा चुके हैं।’ वे पद का परिचय है-

क) उत्तम पुरुषवाचक सर्वनाम, पुल्लिंग, एकवचन, कर्म कारक

ख) अन्य पुरुषवाचक सर्वनाम, पुल्लिंग, बहुवचन, कर्ता कारक

ग) मध्यम पुरुषवाचक सर्वनाम, पुल्लिंग, एकवचन, करण कारक

घ) अन्य पुरुषवाचक सर्वनाम, पुल्लिंग, एकवचन, कर्म कारक

2. ‘सफ़ेद घोड़ा तेज भागता है।’ ‘सफ़ेद’ का परिचय है-

क) विशेषण, गुणवाचक, पुल्लिंग, एकवचन, ‘घोड़ा’ विशेष्य

ख) विशेषण, रीतिवाचक, पुल्लिंग, एकवचन, ‘घोड़ा’ विशेष्य

ग) क्रियाविशेषण, रीतिवाचक, पुल्लिंग, एकवचन, ‘घोड़ा’ विशेष्य

घ) क्रियाविशेषण, गुणवाचक, पुल्लिंग, एकवचन, ‘घोड़ा’ विशेष्य

3. ‘खीरा लज़ीज़ होता है।’- ‘खीरा’ का परिचय है-

क) संज्ञा, व्यक्तिवाचक, एकवचक, पुल्लिंग, कर्ताकारक, ‘होता है’ क्रिया का कर्ता

ख) संज्ञा, व्यक्तिवाचक, एकवचक, पुल्लिंग, कर्मकारक, ‘होता है’ क्रिया का कर्ता

ग) संज्ञा, जातिवाचक, एकवचक, पुल्लिंग, कर्ताकारक, ‘होता है’ क्रिया का कर्ता

घ) संज्ञा, जातिवाचक, एकवचक, पुल्लिंग, कर्मकारक, ‘होता है’ क्रिया का कर्ता

4. मेहनत से जीवन को सफल बनाओ। ‘मेहनत’ का पद-परिचय है- 

क) गुणवाचक विशेषण, पुल्लिंग, एकवचन, कर्ताकारक

ख) जातिवाचक संज्ञा, स्त्रीलिंग, एकवचन, करणकारक

ग) भाववाचक संज्ञा, स्त्रीलिंग, एकवचन, करणकारक

घ) व्यक्तिवाचक संज्ञा, स्त्रीलिंग, एकवचन, करणकारक

5. अनेक भिखारी वहाँ बैठे थे। ‘अनेक’ का पद-परिचय है- 

क) गुणवाचक विशेषण, पुल्लिंग, एकवचन, ‘भिखारी’ विशेष्य

ख) जातिवाचक संज्ञा, पुल्लिंग, बहुवचन, कर्ताकारक

ग) व्यक्तिवाचक संज्ञा, पुल्लिंग, बहुवचन, कर्ताकारक

घ) संख्यावाचक विशेषण, पुल्लिंग, बहुवचन, ‘भिखारी’ विशेष्य

Q6. निर्देशानुसार किन्ही चार प्रश्नों के उत्तर लिखिए

1. संचारीभावों की संख्या है- 

क) तीस

ख) चालीस

ग) तैंतीस

घ) बीस

2. करुण रस का स्थायीभाव है- 

क) भय

ख) शोक

ग) हास

घ) क्रोध

3. भय की अधिकता में रस होता है- 

क) करुण

ख) शांत

ग) भयानक

घ) हास्य

4. सहियत्यशस्त्रीयों के अनुसार रसों की संख्या है- 

क) आठ

ख) नौ

ग) दस

घ) बारह

5. श्रृंगार रस का स्थायीभाव है- 

क) रति

ख) हास

ग) हास

घ) क्रोध

Hindi Class 10 Sample Paper with Solution

By solving these Hindi MCQ Class 10 Sample Paper released by CBSE, students can get a fair idea about the exam pattern and the type of questions asked in the exam. Download CBSE Class 10 Hindi Sample Paper for both Course A & Course B along with their solutions from the below links. 

Class 10 Hindi Sample PaperSolution
Class 10 Hindi Course A Sample PaperClass 10 Hindi Course A Solution
Class 10 Hindi Course B Sample PaperClass 10 Hindi Course B Solution
Related Links
CBSE Class 10 English MCQsCBSE Class 10 English Sample Paper
CBSE Class 10 Hindi Answer KeyCBSE Class 12 Geography Answer Key
CBSE Class 10 SST Answer KeyCBSE Class 12 Maths MCQs
CBSE Class 10 Science Answer Key CBSE Class 12 English MCQs
CBSE Class 10 Maths MCQsCBSE Class 10 Science MCQ
CBSE Class 10 Computer MCQsCBSE Class 10 Maths Answer Key

 

Hindi MCQ Class 10: FAQs

Ans. Solving as many Hindi MCQ for Term-1 can help you to excel in the Hindi exam.

Ans. In the article, we have provided direct link to download Hindi Class 10 Sample Paper along with their solutions.

Important Links